राकेश कुमार द्धारा लिखी गई लेख “जाड़े के मौसम में मुर्गीपालन” प्रकाशित ,पोल्ट्री प्लानर पत्रिका में जनवरी -२०१७

जाड़े के मौसम में मुर्गीपालन करते समय कुछ विशेष ध्यान रखने की आवश्‍यकता होती है।अगर हम जाड़े के मौसम में मुर्गीपालन से अधिक से अधिक लाभ कमाना चाहते हैं, तो निम्नलिखित बातें ध्यान में अवश्‍य रखनी चाहिए। जाड़े के मौसम में मुर्गीपालन के लिए चूजे लाने से पहले या बाद में निम्नलिखित बातें ध्यान में अवश्‍य रखनी चाहिए: जाड़े के मौसम मुर्गीपालन […]

Continue reading

मुर्गी पालन कंपनी के मालिक बहादुर अली की कहानी.

मुर्गी पालन में कामयाबी की इस कहानी को पढ़िए और आप भी कुछ सीखिये इस कहानी से। हालात से समझौता नहीं करने वाले बहादुर अली पिता की अचानक मृत्यु के बाद साइकिल की दुकान में पंचर बनाने के लिए मजबूर हुए लेकिन मन में था कामयाबी का सपना… फिरशुरू किया अपना स्वरोजगार- मुर्गी पालन । […]

Continue reading

गर्मी में मुर्गी पालन कैसे करें ?

गर्मी में मुर्गी पालन करने वालों के लिए आवश्यक है कि तापमान की तेजी से मुर्गियों को बचाया जाए, क्योंकि गर्मीं अधिक बढ़ने से मुर्गियों की मृत्यु दर बढ़ सकती है।मुर्गियों में अधिक मृत्यु दर होने से मुर्गीपालकों को भारी वित्तीय हानि उठानी पड़ सकती है।गर्मी के मौसम में थोड़ी सावधानी से मुर्गियों को तेज […]

Continue reading

मुर्गीपालन ब्यवसाय से लाखों- करोड़ों कमा सकते हैं

मुर्गीपालन ब्यवसाय एक ऐसा व्यवसाय है जो आपकी आय का अतिरिक्त साधन बन सकता है। बहुत कम लागत से शुरू होने वाला यह व्यवसाय लाखों-करोड़ों का मुनाफा दे सकता है। इसमें शैक्षणिक योग्यता और पूंजी से अधिक   अनुभव और मेहनत की दरकार होती है। आज के समय में बेरोजगारी सबसे बड़ी समस्या है। ऐसे में युवा […]

Continue reading

मुर्गीपालन लाभकारी व्यवसाय क्यों और कैसे?

मुर्गीपालन लाभकारी व्यवसाय क्यों और कैसे , यह एक बहुत बड़ा सवाल है ,चलिए हम आपको बतातें हैं की ,मुर्गीपालन क्यों और कैसे ,एक लाभकारी व्यवसाय है ? मुर्गीपालन एक लाभकारी व्यवसाय होने के बहुत सारे कारण हैं ,जिसकी हम निम्नांकित बिंदुओं में चर्चा करेंगे  ।मुर्गीपालन भूमिहीन ,सीमान्त किसानों तथा बेरोजगार नौजवानों को स्वरोजगार उपलब्ध कराने […]

Continue reading

ब्रॉयलर मुर्गीपालन कैसे करें ?

ब्रॉयलर मुर्गीपालन व्यवसाय मीट के उत्पादन के लिए किया जाता है। ऐसा देखा गया है कि ब्रॉयलर मुर्गीपालन यानि मुर्गे का उत्पादन अण्डा उत्पादन से लाभकारी है । इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि ब्रॉयलर मुर्गीपालन के लिए चूज़े 40-45 दिनों में तैयार हो जाते हैं जबकि अण्डा उत्पादन के लिए तैयार होने में […]

Continue reading