१५ लाख की नौकरी छोड़, डेयरी फार्मिंग कर करोड़पति बनें गौतम अग्रवाल की कहानी ।

डेयरी फार्मिंगगौतम अग्रवाल की कहानी उन्हीं के जुबानी  ‘एमबीए करने के बाद मैं एक कंपनी में पंजाब का स्टेट हेड बन चुका था। पोस्टिंग लुधियाना में थी,और 15 लाख रुपए का एनुअल पैकेज। कई बड़ी कंपनियों से जॉब के ऑफर भी थे। लेकिन, उन्हें छोड़कर मैंने मिल्क प्रोसेसिंग और डेयरी फार्मिंग कर करोड़पति बनेंका कारोबार शुरू किया। और कुछ दिनों बाद ही मैंने एक माइक्रो चिलर बनाया। डेढ़ साल के अंदर ही काम चल निकला और हमारा सालाना कारोबार एक करोड़ से ज्यादा तक जा पहुंचा। पहले मैं खुद के लिए कमाता था, लेकिन आज मेरे साथ 100 से ज्यादा छोटे डेयरी फॉर्मर्स जुड़े हैं। मैं खुश हूं कि, मेरी वजह से उन्हें पहले से ज्यादा फायदा मिल रहा है।’यह मेरे लिए सबसे बड़ी बात है’।

मार्केट में उतारूंगा माइक्रो चिलर :

एमबीए पास गौतम अग्रवाल ने बताया कि माइक्रो चिलर छोटे डेयरी फॉर्मर्स को ध्यान में रखकर बनाया है। आम तौर पर मार्केट में मिलने वाली चिलिंग मशीनें साइज में बड़ी हैं और उनकी कीमत भी एक लाख से शुरू होती है। हमने जो माइक्रो चिलर बनाया है इसकी कीमत मात्र 25 हजार रुपए के करीब है और यह साइज में भी छोटा। इस वजह से यह आम लोगों के लिए फायदेमंद साबित हो रहा है। इसकी डिमांड को देखते हुए अब जल्द ही इसे मार्केट में उतारने की सोची है। फिलहाल डेयरी फॉर्मर्स के लिए चिलिंग सेंटर भी खोल रखें हैं।

देश भर के धार्मिक स्थलों में देसी गायों के घी की सप्लाई :

मैंने सिर्फ देसी गायों के दूध का कारोबार शुरू किया। साथ ही साथ जुड़े डेयरी फार्मर्स को इन्हें बढ़ावा देने के लिए तकनीकी जानकारियां देनी भी शुरू की। अभी मैं गाय के दूध का रिटेल काराेबार, पनीर और घी का कारोबार कर रहा हूं। हमारे पठानकोट स्थित फार्म से देसी घी देशभर के धार्मिक स्थलों में सप्लाई किया जा रहा है। इसका दायरा और बढ़ाया जा रहा है। हमारी कोशिश है कि और भी प्रोडक्ट जल्द मार्केट में जल्द उतारा जाए। अब मैं पनीर, प्री-बायोटिक मिल्क ड्रिंक और मिल्क प्रोडक्ट्स की क्वालिटी में सुधार के लिए शोध में जुटा हूं।ग्रोवेल एग्रोवेट प्राइवेट लिमिटेड के तरफ से गौतम अग्रवाल की सफलता के लिए ढेर सारी शुभकामनायें ! कृप्या आप इस लेख को भी पढ़ें जेब में रख ली इंजीनियरिंग की डिग्री और भैंसपालन करके करोड़पति बनें

अगर आप पशुपालन या मुर्गीपालन ब्यवसाय करतें हैं और अपने ब्यवसाय में अधिक से अधिक लाभ कमाना चाहतें हैं तो फेसबुक ग्रुप लाभकारी मुर्गीपालन और पशुपालन कैसे करें?  का सदस्य बनें

Calcium for Cattle

Grow-Cal D 3 
ग्रो-कैल डी3Buy Now Growel Products.

Powerful Calcium for Cattle & Poultry with Extra Zinc Magnesium.

Composition : Each 100 ml contains:

Calcium Organic : 1650 mg
Vitamin D 3 : 8,000 I.U.
Vitamin B 12 : 100 mcg
Carbohydrate : 40000 mg
Phosphorus : 850 mg
Zinc : 90 mg
Magnesium : 300 mg

Indication & Benefits :

  • Increases milk production & optimizes fat level in milk in cattle.
  • Improves skeletal and muscular strength in cattle.
  • Prevents milk fever and rickets in cattle.
  • Increases disease resistance & heals any cuts & wounds quickly in poultry & cattle.
  • Improves overall growth & hatchability in broilers, breeders & layers.
  • Improves egg production and egg shell strength in poultry.
  • Prevent leg weakness in broilers, breeders & layers.
  • Making stronger bones & prevent bones related disease in cattle and poultry.
Dosage :
For Cattle:
Cow, Buffalo and Horse : 50 – 75 ml daily.
Calf, Foal and Pig : 20 – 25 ml daily.
Sheep, Goat and Pig : 5-10 ml daily .
For 100 Birds :
Growers and Broilers : 20 ml. daily.
Layers and Breeders : 30 to 40 ml. daily.
Should be given daily for 7 to 10 days, every month or as recommended by veterinarian.

Packaging : 500 ml., 1 ltr. & 5 ltr.

Download Literature

fertility tonic for bird, fertility medicine for animals

Growmin Forte Plus
ग्रोमिन फोर्ट प्लसbuy poultry medicine online, buy veterinary medicine online, download cattle healthcare products

A Powerful Chelated  Minerals Supplements for Cattle & Poultry

Composition : Each 500 ml contains:

MHA : 128 gm
Choline Chloride : 64 gm
Lysine Hydro Chloride : 64 gm
Sodium : 450 mg
Phosphorus : 154  mg
Magnesium : 595  mg
Zinc : 216  mg
Ferrous (Iron) : 223 mg
Copper : 160 mg
Cobalt : 206 mg
Manganese : 385 mg
Indications & Benefits  :
Poultry:
  • Improve egg production, egg quality & egg shell quality.
  • To overcome minerals and amino acid deficiency.
  • To overcome leg weakness & summer stress.
  • Improve growth, hatchability & fertility .
  • Should be given in any kind of stress.
  • Improve body mass weight & FCR.
For Cattle:
  • To regularize reproductive cycle and to increase conception rate.
  • Prevents production failure related to nutritional deficiencies.
  • To overcome minerals and amino acid deficiency.
  • Improves fertility in female breeder.
  • Improves semen quality in male breeder.
  • Improves carcass quality.
Dosages:
For 100 Birds:
Broilers : 5-10 ml.
Layers & Breeders : 10-20 ml.
For Cattle :
Cow & Buffalo : 30-40 ml.
Goat, Sheep & Pig : 10-20 ml.
Should be given daily for 7-10 days ,every month or as recommended by veterinarian.
Packaging : 500 ml. , 1 ltr. , 5 ltr.

 

Click Below & Share This Page.
Share
Posted in Dairy Farming, Home, पशुपालन और मुर्गीपालन and tagged , , , , , , , , , , , .

13 Comments

  1. aap ki dairy ki success ko dekh kar accha laga main bhi kabhi samay se dairy ke liye plan kar raha hu but abhi tak saphalta mnahi mili hain.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.