गर्मी में पशुपालन कैसे करें ?

गर्मी में पशुपालन गर्मी में पशुपालन  करते समय पशुओं की विशेष देखभाल की जरुरत होती है क्योकि बेहद गर्म मौसम में , जब वातावरण का तापमान ‍ 42-48 °c तक पहुँच जाता है और गर्म लू के थपेड़े चलने लगतें हैं तो पशु दबाव की स्थिति में जाते हैं। इस दबाव की स्थिति का पशुओं की पाचन प्रणाली और दूध उत्पादन क्षमता पर उल्टा प्रभाव पड़ता है। इस मौसम में नवजात पशुओं की देखभाल में अपनायी गयी तनिक सी भी असावधानी उनकी भविष्य की शारीरिक वृद्धि , स्वास्थ्य , रोग प्रतिरोधी क्षमता और उत्पादन क्षमता पर स्थायी कुप्रभाव डाल सकती है गर्मी में पशुपालन करते समय करते समय करते समय  ध्यान देने पर पशु के सूखा चारा खाने की मात्रा में १०३० प्रतिशत और दूध उत्पादन क्षमता में १० प्रतिशत तक की कमी सकती है। साथ ही साथ अधिक गर्मी के कारण पैदा हुए आक्सीकरण तनाव की वजह से पशुओं की बीमारियों से लड़नें की अंदरूनी क्षमता पर बुरा असर पडता है और आगे आने वाले बरसात के मौसम में वे विभिन्न बीमारियों के शिकार हो जाते हैं

गर्मी में पशुपालन करते समय दुधारू एवं नवजात पशुओं की देखभाल की  हेतु निम्नलिखित उपाय करनी चाहिये :

  • सीधे तेज धूप और लू से नवजात पशुओं को बचाने के लिए नवजात पशुओं को रखे जाने वाले पशु आवास के सामने की ओर खस या जूट के बोरे का पर्दा लटका देना चाहिये ।
  • नवजात बच्चे के जन्म के तुरंत बाद उसकी नाक और मुँह से सारा म्यूकसअर्थात लेझा बेझा बाहर निकाल देना चहिये । यदि बच्चे को साँस लेने में अधिक दिक्कत हो तो उसके मुँह से मुँह लगा कर श्वसन प्रक्रिया को ठीक से काम करने देने में सहायता पहुँचानी चहिये ।
  • नवजात बछड़े का नाभि उपचार करने के तहत उसकी नाभिनाल को शरीर से आधा इंच छोड़ कर साफ़ धागे से कस कर बांध देना चहिये। बंधे स्थान के ठीक नीचे नाभिनाल को स्प्रिट से साफ करने के बाद नये और स्प्रिट की मदद से कीटाणु रहित किये हुए ब्लेड की मदद से काट देना चहिये । कटे हुए स्थान पर खून बहना रोकने के लिए टिंक्चर आयोडीन दवा लगा देनी चहिये ।
  • नवजात बछड़े को जन्म के आधे घंटे के भीतर माँ के अयन का पहला स्राव जिसे खीस कहते हैं पिलाना बेहद जरूरी होता है । यह खीस बच्चे के भीतर बीमारियों से लड़ने की क्षमता के विकास और पहली टट्टी के निष्कासन में मदद करता है ।
  • कभी यदि दुर्भाग्यवश बच्चे की माँ की जन्म देने के बाद मृत्यु हो जाती है तो कृत्रिम खीस का प्रयोग भी किया जा सकता है । इसे बनाने के लिए एक अंडे को भलीभाँति फेंटने के बाद ३०० मिलीलीटर पानी में मिला देते हैं । इस मिश्रण में १/२ छोटा चम्मच रेंडी का तेल और ६०० मिलीलीटर सम्पूर्ण दूध मिला देते हैं ।इस मिश्रण को एक दिन में ३ बार की दर से ३-४ दिनों तक
    पिलाना चहिये ।
  • इसके बाद यदि संभव हो तो नवजात बछड़े/ बछिया का वजन तथा नाप जोख कर लें और साथ ही यह भी ध्यान दें कि कहीं बच्चे में कोई असामान्यता तो नहीं है । इसके बाद बछड़े/ बछिया के कान में उसकी पहचान का नंबर डाल दें ।

अधिक गर्म समय में लू लगने के कारण पशु को तेज बुखार आ जाता है और बेचैनी बढ़ जाती है.  वातावरण में नमी और ठंडक की कमी , पशु आवास में स्वच्छ वायु न आना, कम स्थान में अधिक पशु रखना और गर्मी के मौसम में पशु को पर्याप्त मात्रा में पानी न पिलाना इसके प्रमुख कारण हैं। लू अधिक लगने पर पशु मर भी सकता है ।

गर्मी में पशुओं में लू के लक्षण , बचाव और उपचार:

पशुओं में लू के लक्षण :-

पशुओं को आहार लेने में अरुचि, तेज बुखार, हांफना, मुंह से जीभ बाहर निकलना, मुंह के आसपास झाग आ जाना, आंख व नाक लाल होना, नाक से खून बहना, पतला दस्त होना,  श्वास कमजोर पड़ जाना, उसकी  हृदय की धड़कन तेज होना आदि लू-लगने के प्रमुख लक्षण है।

उपचार:-

लू से पशुओं को बचाने के लिए कुछ सावधानियां बरतनी चाहिये :-

  • डेरी को इस प्रकार बनाये की सभी जानवरों के लिए उचित स्थान हो ताकि हवा को आने जाने के लिए जगह मिले, ध्यान रहे की शेड खुला हवादार हो
  • पशु को प्रतिदिन 1-2 बार ठंडे पानी से नहलाना चाहिए.
  • पशु के लिए पानी की उचित व्यवस्था होनी चाहिए
  • मवेशियों को गर्मी से बचाने के लिए पशुपालक उनके आवास में पंखे, कूलर और फव्वारा सिस्टम लगा सकते हैं
  • दिन के समय में उन्हें अन्दर बांध कर रखें ।
  • लू की चपेट में आने पर पशु को तुरंत चिकित्सक को दिखाएं ।
  • पशुओं को  एलेक्ट्रल एनर्जी ( Electral Energy ) देनी चाहिए।

गर्मी में पशुपालन और पशु आहार :-

गर्मी के मौसम में दुग्ध उत्पादन एवं पशु की शारीरिक क्षमता बनाये रखने की दृष्टि से पशु आहार का भी महत्वपूर्ण योगदान है. गर्मी में पशुपालन करते समय पशुओं को हरे चारे की अधिक मात्रा उपलब्ध कराना चाहिए. इसके दो लाभ हैं, एक पशु अधिक चाव से स्वादिष्ट एवं पौष्टिक चारा खाकर अपनी उदरपूर्ति करता है, तथा दूसरा हरे चारे में 70-90 प्रतिशत तक पानी की मात्रा होती है, जो समय-समय पर जल की पूर्ति करता है. प्राय: गर्मी में मौसम में हरे चारे का अभाव रहता है. इसलिए पशुपालक को चाहिए कि गर्मी के मौसम में हरे चारे के लिए मार्च, अप्रैल माह में मूंग , मक्का, काऊपी, बरबटी आदि की बुवाई कर दें जिससे गर्मी के मौसम में पशुओं को हरा चारा उपलब्ध हो सके. ऐसे पशुपालन जिनके पास सिंचित भूमि नहीं है, उन्हें समय से पहले हरी घास काटकर एवं सुखाकर तैयार कर लेना चाहिए. यह घास प्रोटीन युक्त, हल्की व पौष्टिक होती है. । गर्मी के दिनों में पशुओं के चारे में एमिनो पावर (Amino Power) और ग्रो बी-प्लेक्स (Grow B-Plex)  मिलाकर  देना लाभदायक रहता है।

गर्मीं के दबाब के कारण पशुओं के पाचन प्रणाली पर बुरा असर पड़ता है और भूख कम हो जाती है , इस स्थिति से निपटने के लिये और पशुओं की खुराक बढ़ाने के लिये पशुओं को नियमित रूप से ग्रोलिव फोर्ट (Growlive Forte)  देनी चाहिये।

पानी व्यवस्था :-

इस मौसम में पशुओं को भूख कम लगती है और प्यास अधिक. इसलिए पशुओं को पर्याप्त मात्रा में दिन में कम से कम तीन बार पानी पिलाना चाहिए. जिससे शरीर के तापक्रम को नियंत्रित करने में मदद मिलती है. इसके अलावा पशु को पानी में थोड़ी मात्रा में नमक एवं आटा मिलाकर पानी पिलाना चाहिए।

लू से बचाव :-

  • सीधे तेज धूप और लू से पशुओं को बचाने के लिए पशुशाला के मुख्य द्वार पर खस या जूट के बोरे का पर्दा लगाना चाहिये ।
  • सहन के आस पास छायादार वृक्षों की मौजूदगी पशुशाला के तापमान को कम रखने में सहायक होती है ।
  • पशुओं को छायादार स्थान पर बाँधना चाहिये ।
  • पर्याप्त मात्रा में साफ सुथरा ताजा पीने का पानी हमेशा उपलब्ध होना चहिये।
  • पीने के पानी को छाया में रखना चाहिये
  • पशुओं से दूध निकालनें के बाद उन्हें यदि संभव हो सके तो ठंडा पानी पिलाना चाहिये ।
  • गर्मी में ३-४ बार पशुओं को अवश्य ताजा ठंडा पानी पिलाना चहिये ।
  • भैंसों को गर्मी में ३-४ बार और गायों को कम से कम २ बार नहलाना चाहिये ।
  • गाय , भैस की सहन की छत यदि एस्बेस्टस या कंक्रीट की है तो उसके ऊपर ४ -६ इंच मोटी घास फूस की तह लगा देने से पशुओं को गर्मी से काफ़ी आराम मिलाता है ।
  • पशुओं को नियमित रूप से खुरैरा करना चाहिये ।
  • खाने –पीने की नांद को नियमित अंतराल पर चूना कली करते रहना चाहिये ।रसोई की जूठन और बासी खाना पशुओं को कतई नहीं खिलाना चाहिये ।
  • कार्बोहाइड्रेट की अधिकता वाले खाद्य पदार्थ जैसे: आटा,रोटी,चावल आदि पशुओं को नहीं खिलाना चाहिये।पशुओं के संतुलित आहार में दाना एवं चारे का अनुपात ४० और ६० का रखना चहिये ।साथ ही व्यस्क पशुओं को रोजाना ५०-६० ग्राम एलेक्ट्रल एनर्जी ( Electral Energy ) तथा छोटे बच्चों को १०-१५ ग्राम एलेक्ट्रल एनर्जी ( Electral Energy ) जरूर देना चहिये ।
  • गर्मियों के मौसम में पैदा की गयी ज्वार में जहरीला पदर्थ हो सकता है जो पशुओं के लिए हानिकारक होता है । अतः इस मौसम में यदि बारिश नहीं हुई है तो ज्वार खिलाने के पहले खेत में २-३ बार पानी लगाने के बाद ही ज्वार चरी खिलाना चहिये ।
  • पशुओं का इस मौसम में गलाघोंटू , खुरपका मुंहपका , लंगड़ी बुखार आदि बीमारियों से बचाने के लिए टीकाकरण जरूर कराना चाहिये जिससे वे आगे आने वाली बरसात में इन बीमारियों से बचे रहें।
  • पशुओं को नियमित रूप से एलेक्ट्रल एनर्जी ( Electral Energy )अवश्य देनी चाहिए।

इन उपायों और निर्देशों को अपना कर दुधारू पशुओं की देखभाल एवं नवजात पशुओं की देखभाल उचित तरीके से की जा सकती है और गर्मी के प्रकोप और बिमारियों से बचाया जा सकता है तथा उत्पादन को बढ़ाया जा सकता है।

हिन्दी भाषा में लाभकारी पशुपालन करने हेतु विशेष सलाह हेतु आप फेसबुक ग्रुपलाभकारी पशुपालन और मुर्गीपालन कैसे करें? में शामिल हो सकतें हैं ।गर्मी में मुर्गी पालन करने से सम्बंधित आप इस ज्ञानवर्धक लेख को भी पढ़ सकतें हैं  गर्मी में मुर्गी पालन कैसे करें ?

 

Click Below & Share This Page.
Share
Posted in Dairy Farming, Home, पशुपालन और मुर्गीपालन and tagged , , , , , , , .

3 Comments

  1. पशुओं का इस मौसम में गलाघोंटू , खुरपका मुंहपका , लंगड़ी बुखार आदि बीमारियों से बचाने के लिए टीकाकरण जरूर कराना चाहिये जिससे वे आगे आने वाली बरसात में इन बीमारियों से बचे रहें। kon se vaccine di jati hai uska naam bataye?
    Thanks

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.