Vitamins & Minerals for Cow Fertility Article Written by Rakesh Kumar in Dairy Planner Magazine-Jan 2017

  Vitamins-Minerals for cow fertility is vital .As farmers strive to improve milk production, often the reproductive performance of the cow is jeopardized.  This is commonly due to the cow prioritizing the use of nutrients to maintenance (survival of the animal) and lactation prior to the needs for reproduction.If inadequate amount of Vitamins & minerals […]

More Info

ठंड के मौसम में पशुपालन कैसे करें ?

ठंड के मौसम में पशुपालन करते समय पशु -पक्षियों की देखभाल बहुत ही सावधानी और उचित तरीके से करनी चाहिये। ठंढ के मौसम में पशुपालन करते समय मौसम में होने वाले परिवर्तन से पशुओं पर बुरा प्रभाव पड़ता है, परंतु ठंड के मौसम में पशुओं की दूध देने की क्षमता शिखर पर होती है तथा दूध की […]

More Info

How To Cut Cattle Feeding Cost

“How To Cut Cattle Feeding Cost” article written by Rakesh Kumar, published in Dairy Planner , September ,2016.

More Info

पशुपालन से सम्बंधित कुछ जरुरी बातें

पशुओं को स्वस्थ और दुधारू बनाये रखने के लिए पशुपालन से सम्बंधित कुछ जरुरी बातें और नियम हैं ,जिसे की पशुपालकों को पालन करनी चाहिए . पशुओं को हमेशा साफसुथरे माहौल में रखना चाहिए. बीमार होने पर पशुओं को सेहतमंद पशुओं से तुरंत अलग कर देना चाहिए और उन का इलाज कराना चाहिए. इस के अलावा […]

More Info

भैंस पालकों के सवाल और ग्रोवेल के डॉक्टर का जबाब

भैंस पालकों के सवाल का  ग्रोवेल के डॉक्टर की द्वारा जबाब , इस लेख में दिया गया है। प्र0    भैंस खुलकर गर्मी में नहीं आती। गाभिन करायें या नहीं? उ0    भैंस में गर्मी के लक्षण बहुत हल्के होते हैं। उनकी तुलना गाय से नहीं करनी चाहिए। लक्षण यदि ठीक प्रकार से पहचान में नहीं आ रहे हैं […]

More Info

गाभिन भैंसों की देखभाल कैसे करें ?

गाभिन भैंसों की की देखभाल उचित तरीके से हो ताकि भैंस और बच्चे दोनों स्वस्थ रहें ,इसके लिए आपको गाभिन भैंसों की उचित देखभाल की जानकारी होना बहुत ही महत्वपूर्ण है। गर्भधारण से भैंस के ब्याने तक के समय को गर्भकाल कहते हैं। भैंस में गर्भकाल 310-315 दिन तक का होताहै। गर्भधारण की पहली पहचान […]

More Info

पशुओं के सन्तुलित आहार

पशुओं सन्तुलित आहार वैज्ञानिक दृष्टि से दुधारू पशुओं के शरीर के भार के अनुसार उसकी आवश्यकताओं जिसे जीवन निर्वाह, विकास तथा उत्पादन आदि के लिए भोजन के विभिन्न तत्व जैसे प्रोटीन, कार्बोहायड्रेट्स, वसा, खनिज,विटामिन तथा पानी की आवश्यकता होती है|पशु को 24 घण्टों में खिलाया जाने वाला आहार (दाना व चारा) जिसमें उनकी आवश्यकताओं की […]

More Info

Calf Health Management.

Calf Health  Management of replacement animals are important components of total herd profitability. The productivity of the herd can be negatively affected by impaired growth of calves, decreased milk production of animals that experienced chronic illness as baby calves, spread of infectious diseases from calves to adult cows, increased veterinary costs, and the limited opportunity […]

More Info

दूध उत्पादन व्यवसाय

दूध उत्पादन व्यवसाय या डेयरी फार्मिंग छेटे व बड़े स्तर दोनों पर सबसे ज्यादा विस्तार में फैला हुआ व्यवसाय है। दूध उत्पादन व्यवसाय व्यवसायिक या छोटे स्तर पर दूध उत्पादन किसानों की कुल दूध उत्पादन में मदद करता है और उसकी आर्थिक वृद्धि को बढ़ाता है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि, भारत में कई […]

More Info

भैंस के प्रसूतिकाल के रोग

भैंस के प्रसूतिकाल के रोग एवं उपचार : भैंस का प्रसूतिकाल प्रसव के बाद का वह समय है जिसमें मादा जननांग विशेष रूप से बच्चेदानी, शारीरिक व क्रियात्मक रूप से अपनी अगर्भित अवस्था में वापस आ जाती है। इसमें लगभग 45 दिन का समय लगता है। भैंस के प्रसूतिकाल के रोग  इस प्रकार है। जनननलिका, योनि अथवा […]

More Info

दूध उत्पादन में करियर

दूध उत्पादन में करियर की अपार सम्भावनायें हैं ,एक ओर जहां राज्य सरकारें दूध की पैदावार बढ़ाने के लिए किसानों को सब्सिडी देकर उन्हें प्रेरित कर रही हैं, वहीं विज्ञान और तकनीकी का सहारा लेकर दूध उत्पादन बढ़ाने के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं. ग्रामीणों क्षेत्र के लोगों को उनकी आजीविका के साधनों […]

More Info

भैंस के लिये संतुलित आहार कैसे बनायें ?

भैंस के लिये संतुलित आहार उस भोजन सामग्री को कहते हैं जो किसी विशेष पशु की 24 घन्टे की निर्धारित पौषाणिक आवश्यकताओं की पूर्ति करता है। संतुलित राशन में कार्बन, वसा और प्रोटीन के आपसी विशेष अनुपात के लिए कहा गया है। सन्तुलित राशन में मिश्रण के विभिन पदाथोर् की मात्रा मौसम और पशु भार […]

More Info

बछड़े की देखभाल कैसे करें?

बछड़े की देखभाल शुरुआती दौर में अच्छी तरह से होना काफी महत्वपूर्ण है क्योकि आज की बछड़ी कल की होने वाली गाय-भैंस है। जन्म से ही उसकी सही देखभाल रखने से भविष्य में वह अच्छी गाय भैंस बन सकती है। स्वस्थ बचपन में अगर बछड़ियों का वजन लगातार तेजी से बढ़ता है तो वे सही […]

More Info

Dairy Farming Business.

Dairy Farming Business is very lucrative business venture  now a days.If you interested in starting a dairy farming business, then I advice you read on. You don’t necessarily need to have love for animals especially cows before recognizing their money-making capabilities. Most people are aware of the business of rearing cows for meat but they […]

More Info

NABARD Subsidy for Dairy Farming

Dairy farming is a large unorganized sector in India and a major source for livelihood in rural areas. In an effort to bring in structure into the dairy farming industry and provide assistance for setting up dairy farms, the Department of Animal Husbandry, Dairying and Fisheries launched the “Venture Capital Scheme for Dairy and Poultry” in 2005. […]

More Info

पशु का आवास कैसे बनायें ?

पशु का आवास जितना अधिक स्वच्छ तथा आराम दायक होता है, पशु का स्वस्थ उतना ही अधिक ठीक रहता है जिससे वह अपनी क्षमता के अनुसार उतना ही अधिक दुग्ध उत्पादन करने में सक्षम हो सकता है| अत: दुधारू पशु के लिए साफ सुथरी तथा हवादार पशुशाला का निर्माण आवश्यक है क्योंकि इसके आभाव से […]

More Info

हिंदी में पशुपालन गाइड-भाग 2

ग्रोवेल द्वारा प्रस्तुत ये हिंदी में पशुपालन गाइड में पशुपालन से सम्बंधित विस्तृत जानकारी दी गई है I इस हिंदी पशुपालन गाइड में निम्नांकित बिन्दुओं पर बिस्तृत जानकारी दी गई है I इस लेख को दो भागो में प्रकाशित किया गया है ,यह लेख हिंदी में पशुपालन गाइड का  भाग दो है I कृत्रिम गर्भाधान कृत्रिम गर्भाधान के […]

More Info

हिंदी पशुपालन गाइड-भाग 1

                      हिंदी पशुपालन गाइड में पशुपालन से सम्बंधित विस्तृत जानकारी दी गई है I इस हिंदी पशुपालन गाइड में निम्नांकित बिन्दुओं पर बिस्तृत जानकारी दी गई है I इस लेख को दो भागो में प्रकाशित किया गया है ,यह इस लेख का भाग एक है  […]

More Info

Vitamins-Minerals for Cow Fertility

Vitamins-Minerals for cow fertility is vital .As farmers strive to improve milk production, often the reproductive performance of the cow is jeopardized.  This is commonly due to the cow prioritizing the use of nutrients to maintenance (survival of the animal) and lactation prior to the needs for reproduction.If inadequate amount of Vitamins & minerals for […]

More Info

जेब में रख ली इंजीनियरिंग की डिग्री और भैंसपालन करके करोड़पति बनें .

  भैंसपालन करके  करोड़पति बनें हरियाणा में जींद जिले के छोटे से गांव बोहतवाला के रहने वाले हैं बलजीत सिंह रेढु की कहानी है ये । इन्हें बचपन में बताया गया था कि कभी इस इलाके में दूध की नदियां बहती थीं। लेकिन बड़े हुए चीजें बदल गईं। इस इलाके में फिर से दूध का कारोबार […]

More Info

पशुओं में बांझपन

पशुओं में बांझपन – कारण और उपचार भारत में डेयरी फार्मिंग और डेयरी उद्योग में बड़े नुकसान के लिए पशुओं का बांझपन ज़िम्मेदार है. बांझ पशु को पालना एक आर्थिक बोझ होता है और ज्यादातर देशों में ऐसे जानवरों को बूचड़खानों में भेज दिया जाता है. पशुओं में, दूध देने के 10-30 प्रतिशत मामले बांझपन […]

More Info

भैंश पालन लाभकारी कैसे हो ?

                          भैंश पालन लाभकारी कैसे हो ? यह बहुत बड़ा प्रश्न है और समाधान बिलकुल आसान है , अगर आप इस लेख को ध्यान से पढ़ें और बताये गए निर्देशों को अमल करें को भैंस पालन लाभकारी ही नहीं सबसे लाभकारी ब्यवसाय हो […]

More Info

Importance of Nutrients for Cattle.

The use of adequate, well-balanced nutrients for cattle can maximise profits – or minimise losses in a feeding program. An animal’s diet must contain the essential nutrients in appropriate amounts and ratios. This fact sheet outlines the nutrients for cattle that are basic to good cattle nutrition, and how well balanced feeds succeed in supplying these nutrients. However, to better […]

More Info

पशु चिकित्सा के लिए आईसीयू.

पशु चिकित्सा के लिए आईसीयू ,है न अच्चम्भा ! जी हाँ ,देश की एक ऐसी गौशाला जहां गायों का आपरेशन व पशुओं के लिए आईसीयू की व्यवस्था है। यहीं नहीं इनकी देखरेख के लिए 65 डाक्टर, 268 स्टाफ , 21 एम्बुलेंस व निजी कम्पाउंडर भी तैनात हैं। राजस्थान में पशुओं की सेवा के लिए नागौर […]

More Info

दुग्ध पशुओं में प्रजनन.

पशुओं में प्रजनन कार्यक्रम की सफलता के लिए पशु पालक को मादा पशु में पाए जाने वाले मद चक्र का जानना बहुत आवश्यक है| गाय या भेंस सामान्य तौर पर हर 18 से 21 दिन के बाद गर्मी में आती है जब तक शरीर का वज़न लगभग 250 किलो होने पर शुरू होता है| गाय […]

More Info

दुधारू पशुओं की देखभाल, गर्मी में।

दुधारू पशुओं की देखभाल एवं नवजात पशुओं की देखभाल का ग्रीष्मकाल में औचित्य : बेहद गर्म मौसम में , जब वातावरण का तापमान ‍ 42-48 °c तक पहुँच जाता है और गर्म लू के थपेड़े चलने लगतें हैं तो पशु दबाव की स्थिति में आ जाते हैं। इस दबाव की स्थिति का पशुओं की पाचन […]

More Info

पशुओं के लिए खनिज लवण का मह्त्व.

पशुओं के लिए खनिज लवण प्रजनन में  अतिमहत्वपूर्ण स्थान हैं। शरीर में इनकी कमी से नाना प्रकार के रोग एवं समस्यायें उत्पन्न हो जाती है। इनकी कमी से पशुओं का प्रजनन तंत्र भी प्रभावित होता है, जिससे पशुओं में प्रजनन संबंधित विकार पैदा हो जाते है, जैसे पशु का बार-बार मद में अनाना, अधिक आयु […]

More Info

A Journey From IT To Dairy Farming.

“Dairy Farming had its inception in my mind with the introduction of 3 cows into my three-acre farmland which was originally intended to serve as a weekend getaway from town.” It is well past sunset, and the farm animals have begun their rest, except for a calf playing around. And, my guest for the evening […]

More Info

Dairy Farming in India.

Dairy farming in India is a profitable business. It provides an excellent opportunity for self employment of unemployed youth. It   is also  an important source of income generation to small/marginalfarmers and agricultural laborers. India is the largest milk producer of the world. The demand of milk & milk product is increasing rapidly. There is immense scope of dairy […]

More Info

डेयरी फार्म उधोग खड़ा किया IT करियर छोड़ ,करोड़पति बनें

डेयरी फार्म उधोग खड़ा किया संतोष डी सिंह, जिन्होंने ने अच्छी -खासी आईटी करियर  छोड़कर आज उनके डेयरी फार्म उधोग का कुल टर्नओवर 1 करोड़ रुपए सालाना है। कंपनी : अमृता डेयरी फार्म्स संस्थापक : संतोष डी सिंह क्या खास : आईटी सेक्टर प्रोफेशनल द्वारा कम संसाधनों के साथ शुरू किया गया डेयरी फार्म उधोग समय के […]

More Info

Disaster Management for livestock.

Disaster Management for livestock should be  proper ,if it is not proper the Impact of disaster are high on the weaker sections of the community. In many developing countries there are a good number of people who can not earn “a dollar a day” (D.A.D). When developing countries are disaster prone, the poor suffer the impact acutely. Many […]

More Info

१५ लाख की नौकरी छोड़, डेयरी फार्मिंग कर करोड़पति बनें गौतम अग्रवाल की कहानी ।

लुधियाना। ‘एमबीए करने के बाद मैं एक कंपनी में पंजाब का स्टेट हेड बन चुका था। पोस्टिंग लुधियाना में थी। और 15 लाख रुपए का एनुअल पैकेज। कई बड़ी कंपनियों से जॉब के ऑफर भी थे। लेकिन, उन्हें छोड़कर मैंने मिल्क प्रोसेसिंग और डेयरी फार्मिंग कर करोड़पति बनेंका कारोबार शुरू किया। और कुछ दिनों बाद ही […]

More Info

Fruit and Vegetable Wastes as Livestock Feed.

Livestock play an integral role in the livelihood of poor farmers by providing economic, social and food security. According to FAO, 2011 the world would need 73% more meat and 58% more milk in 2050. So, to meet these demands, huge quantity of feed resources will be required.  Already there is a considerable shortage of […]

More Info

How to Cut Cattle Feeding Costs.

Cattle Feeding costs keeping down is one way to improve your chances of making money in the cattle feeding business. Here are 10 suggestions. Select Your Animal Carefully: If your animals are not performing at their peak, they are probably costing you money. Select the breed of cattle that best suit your needs. When you select […]

More Info

दुधारू पशुओं के आहार संतुलित कैसे बनायें और खिलाएं?

दुधारू पशुओं के आहार संतुलित कैसे बनायें और खिलाएं? संतुलित आहार उस भोजन सामग्री को कहते हैं जो किसी विशेष पशु की 24 घन्टे की निर्धारित पौषाणिक आवश्यकताओं की पूर्ति करता है। संतुलित राशन में कार्बन, वसा और प्रोटीन के आपसी विशेष अनुपात के लिए कहा गया है। दुधारू पशुओं के आहार को सन्तुलित राशन में मिश्रण […]

More Info

भैंस पालन से सम्बंधित जानकारियां.

डेयरी पालन उद्योग में दुधारू पशुओं को पाला जाता है। इनमें गाय, भैंस व बकरी उल्लेखनीय हैं। भैंस और गाय की अपेक्षा बकरी का दूध मात्रा में कम होता है। भैंस और विदेशी नस्ल की गायें ज्यादा मात्रा में दूध देती हैं। भारत में 32 तरह की गायें पाई जाती हैं। गायों की प्रजातियों को […]

More Info

पशुपालकों के सवाल और ग्रोवेल के डॉक्टर का जबाब – भाग 2

पशुपालकों के सवाल और ग्रोवेल के डॉक्टर का जबाब – भाग 2 प्रश्न: संक्रामक रोगों के प्रमुख लक्षण क्या है? डॉक्टर का जबाब : संक्रामक रोगों के प्रमुख लक्षण निम्न है:- – तीव्र ज्वर – भूख ना लगना – सुस्ती – सूखी थोंथ – कमजोर रूमिनल गति अथवा पूर्ण रूप से स्थिर होना – दुग्ध […]

More Info

पशुपालकों के सवाल और ग्रोवेल के डॉक्टर का जबाब- भाग 1

पशुपालकों के सवाल और  ग्रोवेल के डॉक्टर का जबाब : प्रश्न: पशुओं को कितना आहार देना चाहिये ? डॉक्टर का जबाब : दूधारू पशुओं में क्षमता अनुसार दूध प्राप्त करने के लिए लगभग 40-50 कि.ग्रा. हरे चारे एवम 2.5 कि. दाने की प्रति किलोग्राम दूध उत्पादन पर आवश्यकता होती है। प्रश्न: यदि हरा चारा पर्यापत […]

More Info

Vitamins and Minerals for Dairy Cattle

Vitamins and Minerals for Dairy Cattle and well-balanced diets can maximise profits or minimise losses in a feeding program as well cattle farming business. A animal’s diet must contain the essential Vitamins and Minerals in appropriate amounts and ratios. In this article we have  outlines the nutrients that are basic to good cattle nutrition, and how well balanced feeds succeed in supplying these nutrients. To better understand […]

More Info